क्रिप्टोकरेंसी क्या है? Cryptocurrency Meaning in Hindi

Cryptocurrency meaning in Hindi

नमस्कार दोस्तों! इस लेख मेंन हम क्रिप्टोकरेंसी के बारे में जानेंगे। पुराने समय में जब मुद्रा(Currency) का चलन नहीं था तब लोग वस्तु विनिमय(Commodity Exchange) प्रणाली का प्रयोग कर चीजें खरीदते थे। समय के साथ जब हम सभ्य होते गए तो करेंसी का उपयोग बढ़ने लगा और सभी देशो ने अपनी अर्थव्यवस्था को चलाने के लिए चीजों को खरीदने के लिए करेंसी बनाई। जैसे इंडिया का रुपया(₹), अमेरिका का डॉलर($), इंग्लैंड का पाउंड स्टरलिंग(£), यूरोप देशो का यूरों(€) आदि। परंतु इंटरनेट के इस दौर में digitalisation बहुत तेजी से बढ़ा, उसी प्रकार से हमारे पेमेंट करने के तरीकों में भी बदलाव हुआ है। कुछ सालों पहले ऑनलाइन पेमेंट को ज्यादा लोग नहीं जानते थे, पर आजकल भारत में भी ज्यादा लोग PhonePe, PayTM, GooglePay जैसे digital पेमेंट प्लैटफ़ार्म के आने के बाद ऑनलाइन ट्रैंज़ैक्शन करने लगे है। इन ट्रैंज़ैक्शन में जो करेंसी का लेन-देन हम करते है यह physical रूप में भी होती है, जिसे हम जब चाहें तब बैंक या ATM जाकर निकाल सकते है। जिस प्रकार इंटरनेट से हम पूरी दुनियाँ से जुड़े है, Cryptocurrency इसी इंटरनेट की करेंसी है। जिसके बारें में हम विस्तार से आगे इस लेख समझने वाले है।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है(Cryptocurrency Meaning in Hindi)

आप जब किसी भी प्रकार की करेंसी के बारें में विचार करते है, तो आपके सामने बैंकनोट और सिक्कों(coins) के चित्र सामने आते है। परंतु एक ऐसी मुद्रा की कल्पना करें जिसका कोई भौतिक स्वरूप नहीं है।

परिभाषा: Cryptocurrency में “Crypto” शब्द गीक भाषा के ‘क्रिप्टोस(kryptós)’ से लिया गया है जिसका अर्थ होता है गुप्त(hidden or secret). Cryptocurrency एक प्रकार की विक्रेन्द्रीकृत(decentralised) डिजिटल मुद्रा है जो Blockchain Technology का प्रयोग करती है, जिसका भौतिक(physically) रूप में बैंक के नोट और सिक्कों की तरह कोई अस्तित्व नहीं है। यह electronic फॉर्म में आपके डिजिटल wallet में स्टोर रहती है।

क्रिप्टोकरेंसी का पूर्ण आधार इंटरनेट है, इसके सभी ट्रैंज़ैक्शन Cryptography नामक तकनीक का उपयोग करके highly secure होते है। इसकी सबसे अच्छी बात यह है कि यह पूरी दुनियाँ के लिए समान रूप से इंटरनेट पर उपलब्ध है आप Cryptocurrency Exchange का उपयोग करके इस currency को खरीद कर रख भी सकते है। इसे कंट्रोल करने के लिए बीच में कोई सरकार, बैंक या संस्था नहीं होती है। ट्रैंज़ैक्शन सीधे एक वालेट से दूसरे वालेट में होता है, जिसे peer-2-peer नेटवर्क की तरह देखा जा सकता है।

दुनियाँ की पहली और अब तक की सबसे प्रचलित क्रिप्टोकरेंसी Bitcoin जिसे 2009 में एक प्रोग्रामर Natoshi Nakamoto द्वारा बनाई गई थी। आजकल और भी क्रिप्टोकरेंसी चलन में आ गयी है जैसे- Ethereum, Dogecoin, XRP, Cardano, USD Coin, Litecoin आदि इन सभी के बारें में हम आगे चर्चा करेंगे।

Cryptocurrency कैसे बनाई जाती है?(How is Cryptocurrency Created Hindi)

क्या, कभी अपने सोचा है Cryptocurrency कैसे बनती है? और इन्हे कौन बनाता है? तो आइये ये समझते है कि Cryptocurrency कैसे बनाई जाती है? इसके लिए पहले कुछ महत्वपूर्ण बिन्दुओं के बारें में समझे:-

Blockchain: क्रिप्टोकरेंसी नेटवर्क में बनने वाले coins के records को स्टोर करता है, इन रिकॉर्ड को ब्लॉक कहते है, हर ब्लॉक के पास पिछले ब्लॉक का Hash Pointer/Unique Address होता है। इससे हर एक ब्लॉक अपने पिछले ब्लॉक की इन्फॉर्मेशन स्टोर करके रखता है, सभी record एक दूसरे से लंबी दूरी तक जुड़कर chain का निर्माण करते है। Chain के किसी भी ब्लॉक(record) में छेड़छाड़/बदलाव होने पर पूरी Blockchain एंक्रीप्ट हो जाती है। इसलिए यह बहुत secure होती है।

Nodes: क्रिप्टोकरेंसी नेटवर्क में यह एक कम्प्युटर होता है, जो Blockchain की copies(store) को होस्ट करके रखता है। क्रिप्टोकरेंसी लेन-देन में किसी 2 नोड्स के बीच पियर-2-पियर नेटवर्क काम करता है।

Transaction: आप इसे किसी क्रिप्टोकरेंसी डिमांड कह सकते है, जब कोई crypto coins खरीदता है तो ट्रैंज़ैक्शन कहलाता है। यह supply node और demanding node के बीच स्थापित होता है, जो किसी क्रिप्टोकरेंसी के transfer होने को validate करता है।

क्रिप्टोकरेंसी Blockchain तकनीक का प्रयोग करती है। जब भी कोई ट्रैंज़ैक्शन होता है तो Blockchain बनती है इसके algorithm(hash problem) को क्रैक करने के लिए कई nodes काम करती है इनको miners भी कहा जाता है, जो node सबसे पहले blockchain की hash problem को solve कर देता है उसे फलस्वरूप cryptocurrency प्राप्त होती है। जितने ज्यादा miners किसी cryptocurrency network को join करते है hash problem ज्यादा कठिन होती जाती है। इस प्रोसैस को Cryptocurrency Mining कहते है। इसी प्रक्रिया से Bitcoin, Ethereum जैसी क्रिप्टोकरेंसी बनती है।

Cryptocurrency कैसे कार्य करती है(How Cryptocurrency Works Hindi)

किसी Cryptocurrency की कीमत उसकी डिमांड और supply chain पर निर्भर करती है। Bitcoin जो पहली cryptocurrency थी, इसकी मार्केट वैल्यू आज 645 बिलियन डॉलर हो गयी है। कोई  cryptocurrency जितनी ज्यादा प्रचलित होती है उसकी मार्केट में डिमांड बढ़ती है। इससे ट्रैंज़ैक्शन रेट बढ़ जाता है और blockchain की hash problem ज्यादा complex बनती जाती है। इससे कॉम्प्लेक्स algorithm को हल करने के लिए किसी mining node को ज्यादा प्रोसेसिंग पावर वाले GPU की आवश्यकता होती है। जब एक crypto coin बन जाता है तब बनाने वाले को(crypto miner) के डिजिटल wallet में मिल जाता है। अब यही इस cryptocurrency का मालिक होता है, Owner अपने इस coin को चाहे तो बेच कर profit कमा सकता है या आने वाले भविष्य के लिए hold कर सकता है।

आजकल बड़ी-बड़ी कंपनी Bitcoin जैसे क्रिप्टोकरेंसी से ट्रैंज़ैक्शन स्वीकार करने लगी है जैसे Tesla, PayPal, X-Box, कई Fast-Food company आदि। अगर आपके पास किसी भी प्रकार की cryptocurrency है तो आप उसका उपयोग local currency exchange करवाने में कर सकते है।

अगर आप भी cryptocurrency खरीदना चाहते है तो आपको Cryptocurrency Exchanges के पास जाना होता है। ये आपको आपकी currency(रुपया, डॉलर, पाउंड) के बदले virtual currency(tokens) प्रदान करते है। इन इन tokens का एक unique address होता है जो आपके डिजिटल wallet में सुरक्षित रहता है। इसे Cryptocurrency ट्रेडिंग कहा जाता है।

भारत में कुछ सबसे अच्छे Cryptocurrency Exchange निम्नलिखित है इन Apps के माध्यम से आप कई प्रकार की cryptocurrency को खरीद सकते है:-
  • WazirX
  • Coin DCX Go
  • CoinSwitch Kuber
  • Zebpay
  • UnoCoin
  • Coinbase

भारत में एक अच्छा इनवेस्टमेंट Fix Deposit, Gold, Liquid Funds, Mutual Funds आदि को माना जाता है परंतु धीरे-धीरे इंटरनेट के प्रसार से क्रिप्टोकरेंसी इनवेस्टमेंट का चलन बढ़ा है।

टॉप 5 बेस्ट क्रिप्टोकरेंसी

जुलाई 2021 तक दुनियाँ में 6000+ crypto coins है लेकिन हम आपको यहाँ 5 सबसे प्रचलित crypto currencies के बारें में बताने जा रहें है।

5 बेस्ट क्रिप्टोकरेंसी

1.Bitcoin (BTC):

इसे ฿ के सिम्बल द्वारा प्रदर्शित किया जाता है। जब भी हम Cryptocurrency का नाम लेते है, हमारे दिमाग में Bitcoin का ही नाम आता है। क्योकि यह दुनियाँ की सबसे प्रसिद्ध क्रिप्टोकरेंसी है। Satoshi Nakamoto द्वारा इसे 2009 में बनाया गया था इसलिए इन्हे Father of Bitcoin भी कहते है। Bitcoin एक लिमिट(21 मिलियन) तक ही बनाएँ जा सकते है, जिसमें से 18.7 मिलियन Bitcoin मार्केट में आ चुके है। Bitcoin आज सभी Cryptocurrency के मुक़ाबले 780 बिलियन डॉलर मार्केट वैल्यू के साथ बाकी क्रिप्टो coins से कहीं आगे है।

2.Ethereum(ETH):

इथीरियम को Ξ symbol द्वारा प्रदर्शित किया जाता है, यह अपनी खुद की प्रोग्रामिंग लैंगवेज़ Solidity द्वारा बनाया गया है। इसे Vitalic Buterin ने बनाया था। यह अपने blockchain नेटवर्क का उपयोग बखूबी करता है। यह एक open-source प्लैटफ़ार्म है जिसका उपयोग आप decentralised applications बनाने में कर सकते है। Bitcoin के बाद यह दुनियाँ की 2nd सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी है, जिसका मार्केट कैपिटल 286 बिलियन डॉलर का है।

3.Tether(USDT):

यह इन्वेस्टर्स के लिए सबसे स्थिर coin माना जाता है, इसे कुछ इस प्रकार  से प्रदर्शित करते है। इसे अमेरिका के डॉलर द्वारा सपोर्ट किया जाता है। इसे इस लिए बनाया गया था ताकि cryptocurrency की कीमत में स्थिरता लाई जा सके। इसकी आज मार्केट वैल्यू लगभग 62 मिलियन डॉलर की है।

4.Binance Coin(BNB):

Binance Exchange द्वारा 2017 में इस cryptocurrency को लाया गया था। अगर इसकी मार्केट वैल्यू की बात करें तो वह 55 बिलियन डॉलर की है। लोगो को यही crypto coin भी बहुत पसंद है, इसलिए अच्छे इन्वैस्टर इसे खरीदना पसंद करते है।

5.Litecoin(LTC):

2011 में चार्ली ली(Charlie Lee) द्वारा बनाया गया यह एक ओपन सोर्स पेमेंट प्लैटफ़ार्म है। इसे किसी भी सेंट्रल अथॉरिटी द्वारा कंट्रोल नहीं किया जा सकता। इसे  प्रतीक Ł चिन्ह द्वारा दर्शाते है। अभी तक इसकी कुल supply 84 मिलियन की है। यह जल्दी ब्लॉक को क्रिएट करता है जिससे ट्रैंज़ैक्शन ज्यादा तेजी से हो पाता है। इसकी मार्केट 12 बिलियन डॉलर की है।

आने वाला समय पूर्ण रूप से इंटरनेट पर आधारित होगा अतः यह कहना गलत नहीं होगा कि cryptocurrency हमारे economy का भविष्य है, इसलिए हमें उम्मीद है कि आप Cryptocurrency Meaning in Hindi समझ पाएँ होंगे। अगर आपको फिर भी किसी प्रकार का प्रश्न हो तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

Leave a Comment